• Home »
  • social issues »
  • 2000 रूपये का नोट लाना कितना सही और कितना गलत

2000 रूपये का नोट लाना कितना सही और कितना गलत

img-20161112-wa0006

जैसा कि आप सभी जानते है कि भारत सरकार के वर्तमान निर्णय अनुसार 500 और 1000 के पुराने नोटों के बजाय 500 और 2000 के नए लाय गये है ! आज हम देखेंगे कि 2000 रूपये का नोट लाना कितना सही और कितना गलत है –

सबसे पहला तर्क इस नोट को लाने के पीछे यह दिया जा रहा है कि आतंकवादियों के पास बहुत सारा पैसा 500 और 1000  के नोटों में पहुँच चूका है ! जिसका इस्तेमाल वो लोग आतंक फैलाने में कर रहे है ! नोट बंद होने से उनके पास की रकम अब लगभग शून्य हो जायेगी ! फौरी तौर पर तो ये ठीक लगता है लेकिन आपने भ्रष्टाचार रोकने हेतु कोई ठोस कदम नहीं उठाया है जिसके कारण अब आतंकियों के पास पैसे 500 और 1000  के नोटों के बजाय 2000 के नोटों में पहुंचेगा ! 2000 के नोटों में बड़ी रकम एक जगह से दूसरे जगह ले जाना 500 और 1000  के नोटों से ज्यादा सरल होगा ! बड़ी रकम 2000 के नोटों में बहुत ही कम जगह लेगा ! आतंकियों के पास ज्यादा आसानी से रकम पहुँचने की सम्भावना है ! इसलिए 2000 के नोट भविष्य के लिए अच्छा नहीं है !

दूसरा तर्क यह दिया गया कि 500 और 1000  के बहुत से नकली नोट बाजार में आ गये है ! जाहिर सी बात है कि नए नोट लाने से ये बाजार से गायब तो हो जायेंगे लेकिन आज की इस तकनीकी दुनिया में नए नोटों के जाली नोट बनाना कहाँ मुश्किल है ! अब सोचिये 1000  के एक जाली नोट से हमारे अर्थव्यवस्था को 1000  का नुकसान हो रहा था अब एक जाली नोट से 2000 का नुकसान होगा ! तो इस लिहाज से भी 2000 के नोट हमारी अर्थव्यवस्था के लिए घातक साबित हो सकते है !

तीसरी चीज़ हम सबने देखा है बड़े नोटों के आने के बाद महंगाई भी बढ़ जाती है ! पहले जब सिर्फ 100 के नोट थे तब महंगाई कम थी ! जब 500 के नोट आए महंगाई थोड़ी और बढ़ी और जब 1000  के नोट तब और बढ़ी और अब जब 2000 के नोट आ रहे है जाहिर सी बात है महंगाई और बढ़ेगी !

चौथी चीज़ जब चुनाव हो रहे थे तो बहुत से नेताओं ने कहा था कि बड़े नोटों कि वजह से भ्रष्टाचार बढ़ा है ! तर्क दिया जा रहा था कि अगर कोई आदमी किसी को 10 लाख का रिश्वत देगा तो आज आसानी से दिया जा सकता है लेकिन जब 500 और 1000  के नोट नहीं रहेंगे तो उनको बड़े बोरे में भरकर ले जाना पड़ेगा जो कि लोगों के नज़र में आएगा ! लेकिन अब उस तर्क के उलट काम किया गया है अब बड़ी रिश्वत देना और आसान कर दिया गया ! 2000 के नोट के केवल ५ बण्डल में ही 10 लाख लाया ले जाया जा सकता है जिसको आसानी से आदमी कही पर भी छुपा सकता है ! तो इस लिहाज से भी 2000 के नोट भ्रष्टाचार को बढ़ावा देगा !

जब 1000 के नोट चलन में थे तब हमको उसको खुल्ला कराने कितना भटकना पड़ता था अब 2000 के नोट आने से परेशानी उस लिहाज से और बढ़ जायेगी !

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि 2000 रूपये का नोट लाना भविष्य के लिए एक गलत फैसला हो सकता है !